जमुनापारी बकरी के पालन से होंगी छप्पड़फाड़ कमाई, बस कुछ ही दिन में बना देंगी मालामाल

0
जमुनापारी बकरी के पालन से होंगी छप्पड़फाड़ कमाई, बस कुछ ही दिन में बना देंगी मालामाल

जमुनापारी बकरी के पालन से होंगी छप्पड़फाड़ कमाई, बस कुछ ही दिन में बना देंगी मालामाल। भारत में बीते कुछ सालों में पशुपालन को किसान बढ़ावा दे रहे है। किसान अब अपनी आय में वृद्धि के लिए पशुपालन की ओर जा रहे है। आज हम आपको ऐसी बकरी पालन के बारे में बताने जा रहे है। जिसके पालन से आप अच्छी कमाई कर सकते हो। इस बकरी पालन के बहुत ही फायदे है।

यह भी पढ़िए – Bajaj Dominar का गेम बजाने आ रही है नए खतरनाक लुक में नई KTM, पॉवरफुल इंजन के साथ कतई जहर फीचर्स

इस बकरी के पालन से बदल सकती है आपकी किस्मत

गांव से लेकर शहरों तक अब पशुपालन का चलन और भी बढ़ गया है. दूध उत्पादन के लिए अब किसान गाय-भैंस पालकर अच्छा पैसा कमा रहे हैं. कुछ किसान गाय-भैंस का खर्चा नहीं उठा पाते, इसलिए वो बकरी पाल लेते हैं. छोटे किसानों की आय को बढ़ाने में बकरियों का अहम रोल हैनस्ल को बिजनेस के लिए बेहद उपयुक्त माना जाता है. विशेषज्ञों का कहना है कि ये नस्ल कम चारे में अधिक दूध देती है. इसके अलावा इस बकरी के मांस में अधिक प्रोटीन भी अधिक होता है. यही वजह है बाजार में इस नस्ल की मांग अधिक रहती है।

जमुनापारी बकरी के पालन से होंगी छप्पड़फाड़ कमाई, बस कुछ ही दिन में बना देंगी मालामाल

जमुनापारी नस्ल की बकरी का इन इलाकों में है ज्यादा चलन

आपको बता दे जमुनापारी नस्ल की बकरी का मूल स्थान यमुना नदी के आस-पास के इलाके हैं. इन इलाकों में बकरी की इस नस्ल को दूध और मांस के लिए पाला जाता है. उत्तर प्रदेश के इटावा, गंगा, यमुना और चंबल नदियों से सटे इलाकों में जमुनापारी बकरी पालने का खूब चलन है। बकरी की इस नस्ल पर ज्यादा खर्च नहीं करना पड़ता. ये बकरियां जंगली पत्तियां और चारा खाकर भी काम चला लेती है और कम दाना-पानी लेकर ही 2 साल में तंदुरुस्त हो जाती है. बाकी नस्लों की तुलना में जमुनापारी बकरी की ब्रीडिंग भी अच्छी है।

यह भी पढ़िए – TATA पर आफत बनकर टूटेंगी नई Maruti Swift, दमदार इंजन के साथ मिलेंगे एक से बढ़कर एक झन्नाट फीचर्स

जमुनापारी बकरी में होते है औषधीय गुण

आपको बता दे की एक बकरी अपने जीवन कल में 14 से 15 बच्चो को जन्म देती है इस नस्ल के बकरे 70 से 90 किलोग्राम, जबकि बकरियां 50 से 60 किलोग्राम वजनदार होती है. जमुनापारी बकरी के दूध में मिनरल और सॉल्ट की मात्रा अधिक होती है. यह रोजाना 2 से 3 लीटर दूध देती है, जिसमें कई औषधीय गुण होते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed