Cooking Oil Rate : खाने के तेल में आई भारी गिरावट, नए भाव जान उछल पड़े लोग, देखिये क्या है नए भाव

0
खाने के तेल में आई भारी गिरावट, नए भाव जान उछल पड़े लोग, देखिये क्या है नए भाव

Cooking Oil Rate : खाने के तेल में आई भारी गिरावट, नए भाव जान उछल पड़े लोग, देखिये क्या है नए भाव। खाद्य तेल के भाव में भयंकर कमी देखने मिल रही है। जिससे आम जनता ने राहत की सांस ली है। आयातित खाद्य तेल कीमतों की भारी गिरावट के बीच दिल्ली तेल-तिलहन बाजार में बीते सप्ताह देशी तेल-तिलहनों के भाव पहले से भी ज्यादा दबाव में आ गए और लगभग सभी तेल-तिलहनों के दाम पिछले सप्ताहांत के मुकाबले नुकसान दर्शाते बंद हुए. बाजार के जानकार सूत्रों ने कहा कि विदेशों में खाद्य तेलों के दाम में भारी गिरावट आई है और कम आयात शुल्क के कारण देश में इन तेलों का इतना अधिक आयात हो चुका है कि इसके आगे देशी किसानों की सरसों, बिनौला जैसी फसलों की खपत नहीं हो पाएगी।

यह भी पढ़िए – प्रधानमंत्री आवास योजना की लिस्ट में चेक करे फटाफट अपना नाम, घर बैठे ऐसे कर सकते है चेक

कुछ समय से तेल के भाव में निरंतर कमी ही देखने मिल रही है। अगले कुछ दिन में पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश की सूरजमुखी फसल बाजार में पूरी तरह से आना शुरू हो जाएगी. आयातित सूरजमुखी तेल का बंदरगाह पर 66 रुपये लीटर का थोक दाम है, उसके आगे तो देशी सूरजमुखी तेल (लगभग 135 रुपये लीटर) कतई खपने की गुंजाइश नहीं है. सरसों किसान एमएसपी से 15-20 प्रतिशत नीचे बेचें और देशी सूरजमुखी बीज 30-35 प्रतिशत नीचे बेचना भी चाहें तो लिवाल नहीं हैं. ऐसी स्थिति कैसे पैदा हुई है इस पर संबद्ध अधिकारियों को विचार करना होगा। बहुत जल्द ही भाव में फिर बदलाव देखने मिलेंगा।

यह भी पढ़िए – 48 की उम्र में भी kajol लग रही है 18 की, बोल्ड लुक से बढ़ाया सोशल मीडिया का पारा, घर पर अकेले में देखे यह Webseries

सूरजमुखी के तेल के भाव

जैसा की आपको बता दे कि सूरजमुखी के तेल के भाव में भी इस साल कमी देखने मिल रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार दिसंबर, 2022 से पहले अधिकतम खुदरा मूल्य (एमआरपी) कम करने के संबंध में तेल उद्योग के साथ सरकार की कई बैठकें हो चुकी थीं. दिसंबर, 2022 में सूरजमुखी तेल का एमआरपी 135-140 रुपये लीटर था. उसके बाद दिसंबर से मई, 2023 के बीच सूरजमुखी तेल के थोक दाम में 530 डॉलर प्रति टन की कमी आई है तो फिर 14 अप्रैल, 2023 को पैकिंग तारीख वाले सूरजमुखी तेल का एमआरपी 196 रुपये कैसे छपा हो सकता है. यहां दाम घटाने के बजाय उल्टा बढ़ा हुआ नजर आता है. इस प्रकरण की छानबीन होनी चाहिए। फिर तेल का असली भाव सामने आयेंगा।

खाने का तेल में भी आई कमी

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सूरजमुखी, कच्चे पाम तेल और पामोलीन तेल के दाम टूटे पड़े हैं. उन्होंने कहा कि आज स्थिति यह है कि शुल्कमुक्त सूरजमुखी तेल का थोक दाम (बगैर रिफाइंड वाला 65-66 रुपये और रिफाइंड सूरजमुखी 70 रुपये लीटर) पामोलीन तेल के थोक दाम (74 रुपये लीटर) से कम हो गया है. जो अपने आप में अनोखा है. इस गिरावट का कारण आयातित सूरजमुखी तेल का थोक दाम 940 डॉलर प्रति टन से घटकर 870 डॉलर प्रति टन रह जाना है।

सोयाबीन का तेल का भाव

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार बाजार की धारणा बिगाड़ने के मकसद से चीन की एक बहुराष्ट्रीय कंपनी और एक अमेरिकी कंपनी तयशुदा शुल्क (फिक्स्ड ड्यूटी) पर 30 जून तक थोक में ‘नंबर एक’ गुणवत्ता वाला रिफाइंड सोयाबीन तेल 81-82 रुपये लीटर के भाव पर बेच रही हैं. इसे पैकर खरीदकर ऊंचे भाव पर बेच रहे हैं. सूत्रों के अनुसार, पिछले सप्ताहांत के मुकाबले बीते सप्ताह सरसों दाने का थोक भाव 80 रुपये की गिरावट के साथ 4,850-4,950 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुआ. समीक्षाधीन सप्ताहांत में सरसों दादरी तेल 140 रुपये टूटकर 9,140 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुआ. सरसों पक्की और कच्ची घानी तेल का भाव 25-25 रुपये घटकर क्रमश: 1,560-1,640 रुपये और 1,560-1,670 रुपये टिन (15 किलो) पर बंद हुआ।

खाद्य तेल के नए भाव

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार समीक्षाधीन सप्ताह में सोयाबीन दाने और सोयाबीन लूज का भाव क्रमश: 25 और 30 रुपये टूटकर क्रमश: 5,055-5,130 रुपये और 4,830-4,905 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुआ. समीक्षाधीन सप्ताहांत में सोयाबीन दिल्ली, सोयाबीन इंदौर और सोयाबीन डीगम तेल के भाव भी क्रमश: 150 रुपये, 350 रुपये और 200 रुपये लुढ़ककर क्रमश: 9,500 रुपये, 9,100 रुपये और 7,800 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुए. खाद्य तेल कीमतों में गिरावट के अनुरूप समीक्षाधीन सप्ताह में मूंगफली तिलहन, मूंगफली गुजरात और मूंगफली साल्वेंट रिफाइंड के भाव क्रमश: 170 रुपये, 500 रुपये और 65 रुपये की गिरावट के साथ क्रमश: 6,200-6,260 रुपये,15,500 रुपये और 2,335-2,600 रुपये प्रति टिन पर बंद हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed