Sarkar Yojana : किसानों की अब होंगी मौज ही मौज, बकरी पालन के लिए सरकार दे रही है 90% सब्सिडी

0
bakari palan

Sarkar Yojana : किसानों की अब होंगी मौज ही मौज, बकरी पालन के लिए सरकार दे रही है 90% सब्सिडी। भारत एक कृषि प्रधान देश है. यहां की अर्थव्यवस्था और जीवनयापन में पशुपालन का अहम योगदान है. देश के छोटे और सीमांत किसान पशुपालन से अच्छी कमाई कर सकते है। सरकार पशुपालन के लिए आसानी से लोन देती है और इसके साथ ही सब्सिडी भी देती है। इस समय सरकार द्वारा पशुपालन के लिए प्रशिक्षण भी दिया जाता है।

यह भी पढ़िए – नहीं के बराबर कपडे पहन के “आश्रम” वेब सीरीज कि पम्मी पहलवान ने शेयर की तस्वीरों को देख लोग हुए हैरान

सरकार दे रही है 90% सब्सिडी

किसानो के आय की वृद्धि के लिए सरकार हमेशा मदद करती है। बकरी पालन को एक कमर्शियल बिजनेस माना जाता है, जो किसी देश की अर्थव्यवस्था और पोषण में बहुत योगदान देता है. आपको बता दें कि बकरी पालन के बिजनेस के लिए केंद्र सरकार से 35 फीसदी की सब्सिडी मिलती है. वहीं, कई राज्य सरकारें भी इसके लिए सब्सिडी मुहैया कराती है. हरियाणा सरकार बकरी पालन के बिजनेस के लिए 90 फीसदी तक सब्सिडी दे रही है.

यह भी पढ़िए – 108MP कैमरा क्वालिटी और कंटाप फीचर्स के साथ OnePlus की धज्जिया मचाने आया Samsung का ये धासु स्मार्टफोन

आसानी से मिल जाता है लोन

इस समय आप पशुपालन का बिज़नेस शुरू कर अच्छी खासी कमाई कर सकते है। अगर आपके पास इस बिजनेस को शुरू करने के लिए पैसे नहीं है तो आप बैंक से लोन भी ले सकते हैं. इस बिजनेस के साथ सबसे अच्छी बात यह है कि इसे कम स्थान और कम खर्च में किया जा सकता है. बकरी फार्म गांवों की अर्थ व्यवस्था की रीढ़ होती है. बकरी पालन से दूध, खाद जैसे तमाम लाभ मिलते है.

बकरी पालन से होंगी तगड़ी कमाई

इस बिजनेस को शुरू करके आप कम लागत में अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं. एक बकरी को मोटे तौर पर एक वर्ग मीटर एरिया की जरूरत होती है. अगर बकरियों के लिए आहार की बात करें तो किसी भी दूसरे पशु के मुकाबले इस पर कम खर्च करना पड़ता है. आम तौर पर एक बकरी को दो किलो चारा और आधा किलो दाना देना ठीक रहता है. बकरी के दूध से लेकर मांस तक में मोटी कमाई होती है. बकरी के दूध का मार्केट में काफी डिमांड है. वहीं, इसका मांस सबसे अच्छे मांस में से एक है जिसकी घरेलू मांग बहुत अधिक है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed