Sarkar Yojana : सरकार सोलर पंप के लिए दे रही है 90 % सब्सिडी, आज ही ले इस योजना का फायदा

0
PM Kusum Yojana

Sarkar Yojana : सरकार सोलर पंप के लिए दे रही है 90 % सब्सिडी, आज ही ले इस योजना का फायदा। किसान भाई के लिए सरकार कई योजना चला रही है। आज हम सरकार की किसान योजना के बारे में बताने जा रहे है। इस योजना से किसानों को बिजली कटौती से छुटकारा मिल जायेंगा। आपको बता दे की किसान को फसल की सिंचाई के समय बिजली बहुत ज्यादा परेशान करती है। अब इस परेशानी से छुटकारा मिल जायेंगा। आज हम आपको सरकार की Kusum Yojana के बारे में बताने जा रहे है।

यह भी पढ़िए – Punch के हाल बेहाल करने आ रही है नई Maruti WagnoR, दमदार इंजन और माइलेज से मचायेंगी भौकाल

सरकार दे रही है सब्सिडी

सरकार की इस योजना का लाभ किसान ले रहे है। जिससे किसान को अब बिजली कटौती से छुटकरा मिल गया है। हरियाणा सरकार ने एक कदम आगे बढ़ते हुए प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा एवं सुरक्षा तथा उत्थान महाभियान (PM-Kusum) के तहत 3 से 10 HP बिजली आधारित कृषि ट्यूबवेल पर 75 प्रतिशत तक की सब्सिडी देने का फैसला किया है. सोलर पंप पर सब्सिडी पाने के लिए किसानों को आधिकारिक वेबसाइट pmkusum.hareda.gov.in पर जाकरआवेदन करना होगा.

2019 में शुरू किया गया था इस योजना को

सरकार ने इस योजना को 2026 तक बढ़ा दिया गया है। इस योजना की शुरुआत साल 2019 में ऊर्जा मंत्रालय द्वारा की गई थी. इस योजना के तहत केंद्र सरकार की ओर से 30% राज्य सरकार की तरफ से 30% और अन्य वित्तीय संस्थानों की तरफ से 30% की सब्सिडी दी जाती है. सिर्फ 10% ही इसमें किसानों को देना होता है. इस योजना का सबसे बड़ा फायदा ये है कि किसानों का बिजली और डीजल का खर्च नहीं होता है और बिजली के ऊपर निर्भरता भी कम होती है. इससे खेती की लागत काफी हद तक कम होती है.

यह भी पढ़िए – ऑटोसेक्टर में अपनी दहाड़ लगाने आ रही है नई Bajaj Pulsar, दमदार इंजन से Yamaha R15 की लगायेंगी वाट

किसान के लिए लाभकारी है यह योजना

किसान के लिए यह योजना बहुत ही फायदेमंद है। इस योजना में किसान का कम पैसो में बहुत अच्छा काम हो जायेंगा। सोलर पंप से आप बिजली बनाकर भी किसी को बेच सकते हो और आप अच्छे पैसे कमा सकते हो। यह योजना किसान को हर ओर से फायदा ही फायदा करायेंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed