बकरी पालन से कमा सकते है बढ़िया तगड़ा मुनाफा, बैंक देती है भरपूर लोन, इन खास नस्लों का करे पालन

0
बकरी पालन से कमा सकते है बढ़िया तगड़ा मुनाफा, बैंक देती है भरपूर लोन, इन खास नस्लों का करे पालन

बकरी पालन से कमा सकते है बढ़िया तगड़ा मुनाफा, बैंक देती है भरपूर लोन, इन खास नस्लों का करे पालन। देश के ग्रामीण क्षेत्रों में बकरी पालन का बिजनेस काफी तेजी से लोकप्रिय हो रहा है. कम लागत में बढ़िया मुनाफे की वजह से लोग इस व्यवसाय में ज्यादा दिलचस्पी दिखा रहे हैं. हालांकि, अक्सर इस तरह की व्यवसाय की शुरू करते वक्त ग्रामीण कम जानकारी और पूंजी नहीं होने की वजह से सफल नहीं हो पाते हैं.

यह भी पढ़िए – Apache को जबरदस्त टक्कर दे रही है Bajaj की शानदार बाइक Pulsar N160, स्पोर्टी लुक और तगड़े फीचर्स से कर रही युवा दिलो पर राज

बकरी पालन से होती है तगड़ी कमाई

बकरी पालन में कम निवेश में बढ़िया मुनाफा हासिल किया जाता है. अधिकतर किसान दूध उत्पादन के लिए बकरियों का पालन करते हैं. इसके अलावा मांस उत्पादन में बकरियां और बकरों का अहम रोल माना जाता है. आप 2- 3 बकरियों और 1 बकरे से बकरी पालन की शुरुआत कर बढ़िया मुनाफा कमा सकते हैं.

यह भी पढ़िए – One Plus के छक्के छुड़ाने आया Motorola Edge+, शानदार फीचर्स और मिलेंगी गजब की कैमरा क़्वालिटी

इन नस्लों का करे पालन

बकरी की ज़्यादातर नस्लों को घूमते-फिरते हुए चरना पसन्द होता है। इसीलिए इनके साथ चरवाहों का रहना ज़रूरी होता है। लेकिन उत्तर प्रदेश और गंगा के मैदानी इलाकों में बहुतायत से पायी जाने वाली बरबरी नस्ल की बकरियों को कम जगह में खूँटों से बाँधकर भी पाला जा सकता है। इसी विशेषता की वजह से वैज्ञानिकों की सलाह होती है कि यदि किसी किसान या पशुपालक के पास बकरियों को चराने का सही इन्तज़ाम नहीं हो तो उसे बरबरी नस्ल की बकरियाँ पालनी चाहिए और यदि चराने की व्यवस्था हो तो सिरोही नस्ल की बकरियाँ पालने से बढ़िया कमाई होती है।

ये बैंक देते है आपको लोन

बकरी पालन के लिए कई बड़े बैंक लोन देते हैं। इनमें प्रमुख बैंकों के नाम इस प्रकार से हैं-

  • बकरी स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई)
  • व्यावसायिक बैंक
  • क्षेत्रीय गृह बैंक
  • कृषि सहयोग और ग्रामीण विकास के लिए राज्य बैंक
  • राज्य बैंक सहकारी
  • शहरी बैंक
  • कैनरा बैंक
  • आईडीबीआई बैंक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed