Business Idea : किसान भाई सफ़ेद मशरूम की खेती से कर सकते है तगड़ी कमाई, लागत भी है बहुत कम

0
white mushroom

Business Idea : किसान भाई सफ़ेद मशरूम की खेती से कर सकते है तगड़ी कमाई, लागत भी है बहुत कम। किसान भाई आज के समय में कई नई नई तकनीक से खेती की जा रही है। आप इस तरह से खेती कर तगड़ी कमाई कर सकते है। आज हम आपको बंद कमरे में की जाने वाली खेती के बारे में बताने जा रहे है. आप बंद कमरे में दूधिया मशरूम की खेती कर सकते है। देश के कई राज्यों में किसान अलग-अलग तरह के मशरूम की खेती कर बंपर मुनाफा कमा रहे हैं.

यह भी पढ़िए – Poco के नए स्मार्टफोन में है शानदार कैमरा क्वालिटी, जबरदस्त डिस्प्ले और तगड़े फीचर्स से Moto की दुनिया हिला कर रख देंगा

दूधिया मशरूम की ऐसे करे बुवाई

दूधिया मशरूम की बुवाई करने के लिए आपको अपनी बीजों को उपचारित करने के बाद एक किलोग्राम साफ व सूखा हुआ भूसा लेना है, भूसे में 40 से 45 ग्राम मशरूम के बीज मिला दें। दूधिया मशरूम की बुवाई में छिड़काव विधि अपनायी जा सकती है, या फिर बुवाई को सतह में भी कर सकते हैं। सतह में बुवाई करने के लिए 15-16 इंच चौड़ी और 20-21 इंच लंबी पॉलिथीन बैग में भूसे की एक परत बिछाई जाती है, फिर उसके ऊपर बीजों को बिखेर दिया जाता है। भूसे की परत पर बीजों को बिखेरने के बाद उसके ऊपर भूसे की एक और परत चढ़ाकर उस पर फिर से बीज डाले जाते हैं। दो परतों के बीच में 3 से 4 इंच का अंतर होना चाहिए। इस तरह से सतह पर बुवाई की जाती है। एक बैग में 3-4 किलो उपचारित बीज भरे जाते हैं। इन बैगों को बिना प्रकाश वाले कमरे में रख दिया जाता है, और 15 से 20 दिनों तक 25 से 35 डिग्री तापमान के साथ 80 से 90 प्रतिशत नमी नियमित रुप से बनाए रखना होता है।

इन चीजों की होंगी आवश्यकता

दूधिया मशरूम के लिए ज्यादा कुछ चीजों की आवश्यकता नहीं होती है। दूधिया मशरूम के उत्पादन के लिए एक अंधेरे कमरा, स्पॉन यानी बीज, भूसा/कुटी (पुआल), हाइड्रोमीटर, स्प्रेइंग मशीन, वजन नापने वाली मशीन, कुट्टी काटने वाली मशीन, प्लास्टिक ड्रम एवं शीट, वेबिस्टीन एवं फॉर्मलीन, पीपी बैग और रबड़ बैंड इत्यादि की जरूरत पड़ती है.

यह भी पढ़िए – एनिमल की भाभी 2 उर्फ़ तृप्ति विक्की कौशल के साथ रोमांस करते आई नजर, वायरल फोटो ने जीता फैंस का दिल

कम समय में होंगी तगड़ी कमाई

दूधिया मशरूम आपके लिए सबसे अच्छा लाभ का धंधा बन सकता है। दूधिया मशरूम की खेती में प्रति किलोग्राम लागत 10 से 15 रुपये तक बैठती है. जबकि, मशरूम का बाजार मूल्य 150 से 250 रुपये प्रति किलो होता है. ऐसे में किसान कम लागत में अधिक मुनाफा कमा सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed