टमाटर के बाद अब सातवें आसमान की और बढ़ने लगे प्याज के दाम, त्योहार के सीजन में हो जाएगा 50 फीसदी महंगा, जाने क्या है प्याज के नए दाम

0
टमाटर के बाद अब सातवें आसमान की और बढ़ने लगे प्याज के दाम, त्योहार के सीजन में हो जाएगा 50 फीसदी महंगा, जाने क्या है प्याज के नए दाम

टमाटर के बाद अब सातवें आसमान की और बढ़ने लगे प्याज के दाम, त्योहार के सीजन में हो जाएगा 50 फीसदी महंगा, जाने क्या है प्याज के नए दाम। इस बार प्याज त्योहारों के दौरान स्वाद के साथ-साथ खुदरा महंगाई का भी जायका बिगाड़ सकता है। जुलाई में टमाटर के दाम 200 रुपये प्रति किलोग्राम से अधिक हो गए थे, जिसकी वजह से जुलाई की खुदरा महंगाई दर 7.7 प्रतिशत के स्तर पर पहुंच गई थी। सितंबर में सब्जी के दाम नियंत्रण में रहने से खुदरा महंगाई दर 5.02 प्रतिशत के स्तर पर आ गई। मगर अब प्याज की चढ़ती कीमतें अक्टूबर और नवंबर की महंगाई दर को हवा दे सकती हैं।

यह भी पढ़े – Tata को पछाड़ देगा Maruti Swift का नया रापचिक मॉडल, 210km की टॉप स्पीड और स्पोर्टी लुक के साथ मिलेगा 35kmpl का दमदार माइलेज

प्याज की कीमत हुई बढ़ोतरी

प्याज की खुदरा कीमत 60 रुपये प्रति किलो तक चली गई हैं और आने वाले दिनों में प्याज के दाम में अभी और बढ़ोतरी हो सकती है। सिर्फ 15 दिनों में प्याज की खुदरा कीमतों में 50 प्रतिशत से ज्यादा का इजाफा हो गया है। हालांकि दिल्ली और पंजाब की थोक मंडियों में अफगानिस्तान से भी प्याज की आवक शुरू हो गई है। राजस्थान से भी नए प्याज की सीमित मात्रा में आवश्यक शुरू हो गई है देश में सबसे अधिक प्याज उत्पादन करने वाला राज्य महाराष्ट्र की सभी मंडियो में प्याज की थोक कीमत 4500 रुपए प्रति कुंतल तक पहुंच गई है।’

यह भी पढ़े – कातिलाना अदाओ में आ रही है 7 सीटर Maruti WagonR कम कीमत में ताबड़तोड़ इंजन और ललनटॉप फीचर्स के साथ करेंगी innova का सूपड़ा साफ

प्याज की कीमत हुई इतने प्रतिशत की वृद्धि

इस साल अगस्त में प्याज के खुदरा दाम पिछले साल अगस्त की तुलना में 25 फ़ीसदी अधिक हो गए हैं और प्याज की खुदरा कीमत इस साल अगस्त में बढ़ कर 33 रूपए प्रति किलो तक चली गई थी तभी सरकार ने अगस्त में ही प्याज के निर्यात पर 40% का शुल्क लगा दिया था जो आगामी 31 दिसंबर तक मान्य होगा इसलिए सरकारी स्तर पर प्याज के दाम को रोकने के लिए बहुत उपाय संभव नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed