इस तकनीक से पशुपालन कर हर दिन होंगी तगड़ी कमाई, रोजाना होंगा 60 से 70 लीटर दूध का उत्पादन

0
इस तकनीक से पशुपालन कर हर दिन होंगी तगड़ी कमाई, रोजाना होंगा 60 से 70 लीटर दूध का उत्पादन

इस तकनीक से पशुपालन कर हर दिन होंगी तगड़ी कमाई, रोजाना होंगा 60 से 70 लीटर दूध का उत्पादन .किसानों की आय में वृद्धि करने लिए बहुत सी फायदेमन्द योजनाएं ला रही है। किसान को खुद का बिज़नेस शुरू लाभ कमाने के लिए प्रेरित कर रहे है। किसानों के लिए पशुपालन या डेयरी एवं कृषि क्षेत्र में नए अनुसंधानों को बढ़ावा देती है। नई तकनीकों से किसान कई गुना तगड़ा मुनाफा कमा सकता है.

भारत में होता है सबसे ज्यादा पशुपालन

दुनिया में सबसे ज्यादा भारत देश में पशुपालन किया जाता है। यहां मौजूद पशुओं की संख्या दुनिया के सभी देशों से ज्यादा है। इसके बाद भी देश दूध उत्पादन में पीछे है। वही अगर बात की जाये अमेरिका, ब्राजील, इंग्लैंड जैसे देश दुग्ध उत्पादन में हमसे कहीं आगे है। यही वजह है कि भारत सरकार इन देशों से डेयरी टेक्नोलॉजी ट्रांसफर की बात करती है। भारत और ब्राजील के आपस में काफी अच्छे संबंध हैं। ब्राजील दुग्ध उत्पादन में कई उन्नत तकनीकों का उपयोग करता है। जिसकी मदद से किसानो की आय में भी तगड़ा मुनाफा हो सकता है।

यह भी पढ़िए – अनिल कपूर के भाई के जाने से करीना और करिश्मा पर टुटा दुःखों का पहाड़, देखिये कौन है वह खास सितारा

ब्राजील तकनीक से करे पशुपालन

इस तकनीक से पशुपालन कर हर दिन होंगी तगड़ी कमाई, रोजाना होंगा 60 से 70 लीटर दूध का उत्पादन .भारत हो या कोई अन्य देश पशुओं का पालन सभी देश अपनी तकनीक और सुविधा के अनुसार उसे व्यवस्थित करने का प्रयास करते हैं. इन्हीं तकनीक को हम भी एक दूसरे से ग्रहण कर उसे लागू कर उन्हें आगे बढ़ाते हैं. ब्राजील भी पशुपालन के लिए तरह-तरह की तकनीक का विकास करता रहता है. लेकिन अब हरियाणा सरकार यही तकनीक हरियाणा किसानों के लिए भी ला रही है. उनके अनुसार पशुओं को व्यवसाय के रूप में पालना ही ब्राजील तकनीक का प्रमुख हिस्सा है.

यह भी पढ़िए – कतई जहर लुक में शानदार फीचर्स वाली नई Splender मचा रही है धूम, इंजन के मामले में भी है No. 1

रोजाना होंगा 60 से 70 लीटर दूध का उत्पादन

भारत में दूध का अच्छा उत्पादन नहीं होता है। किसानो को अब नई तकनीक से पशुपालन करना होंगा। पशुओं के व्यवसाय में ब्राजील तकनीक के आने से हरियाणा के पशुपालकों के दुग्ध उत्पादन में 50 से 100% तक की वृद्धि की उम्मीद है। बताया जा रहा है कि इस तकनीक से प्रदेश में पशुओं के ऐसे नस्ल विकसित हो जाएंगे जो रोजाना 60 से 70 लीटर तक दूध का उत्पादन कर सकते हैं। इतना ही नहीं सरकार पशुपालकों के लिए अनुदान देने का प्रावधान कर रही है। जिससे किसान के लिए अच्छा खासा लाभ का धंधा बन सकता है। किसानो की आय में बहुत बढ़ोतरी हो सकती है।

इस तकनीक से पशुपालन कर हर दिन होंगी तगड़ी कमाई, रोजाना होंगा 60 से 70 लीटर दूध का उत्पादन

सरकार भी करती है मदद

सरकार का निरंतर यह ही प्रयास होता है कि किसान की आय में वृद्धि हो। सरकार ब्राजील पशुपालन अपनाने के लिए पूरी तरह से तत्पर है. वह इस योजना के लिए अनुदान का तो प्रबंध कर ही रही है साथ ही ज्यादा दूध वाले पशुओं की मात्रा को बढ़ाया जा सके इसके लिए सरकार अच्छे सीमन का भी प्रबंध करके किसानों और डेयरी उत्पादकों को उपलब्ध कराएगी. हरियाणा सरकार के कृषि मंत्री के अनुसार बहुत से पशुपालकों को अच्छी नस्ल का सीमन उपलब्ध न हो पाने के कारण ही वे व्यवसायिक गति से बाहर हो जाते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed