Kadaknath : इस काले मुर्गे के पालन से होंगी रिकॉर्डतोड़ कमाई, मार्केट में भी है इसकी तगड़ी डिमांड

0
इस काले मुर्गे के पालन से होंगी रिकॉर्डतोड़ कमाई, मार्केट में भी है इसकी तगड़ी डिमांड

Kadaknath : इस काले मुर्गे के पालन से होंगी रिकॉर्डतोड़ कमाई, मार्केट में भी है इसकी तगड़ी डिमांड। कड़कनाथ मुर्गे की इस समय मार्केट में डिमांड बढ़ते ही जा रही है। आप इस मुर्गे का पालन घर बैठे कर सकते हो। आपको इसके लिए कोई खास सेटअप की जरूरत नहीं होंगी। आप घर के किसी कोने में भी इसका पालन कर सकते हो।

यह भी पढ़िए – ऑटोसेक्टर में जलवा बिखेरने आ रही है नई Mahindra Bolero, 7 सीटर नहीं 9 सीटर होंगी नई महिंद्रा बोलेरो

क्रिकेटर महिंद्र सिंह धोनी भी करते है इसका पालन

आपको बता दे कि भारतीय टीम के क्रिकेटर महिंद्र सिंह धोनी भी इस मुर्गे का पालन करते है। इस मुर्गे का सबसे ज्यादा पालन मध्यप्रदेश में होता है। अब धीरे धीरे इसका पालन अन्य प्रदेश में भी शुरू हो गया है। मध्यप्रदेश सरकार कड़कनाथ मुर्गे के पालन के लिए मदद करती है।

काफी महंगा बिकता है इस मुर्गे का मॉस

यह मुर्गा बहुत ही उपयोगी है जिसके कारण इस मुर्गे की मार्केट में डिमांड भी है। प्रोटीन की भरपूर मात्रा वाला ये चिकन बाजार में 1,000 से 1,200 रुपये किलोग्राम तक बिकता है. इस मुर्गी के अंडे भी 30 से 35 रुपये का एक बिकता है, लेकिन इसकी अधिक कीमतों का असर मार्केटिंग पर नहीं पड़ता. हमारे देश में ही नहीं, विदेशों में भी कड़कनाथ अंडे की काफी मांग रहती है. कड़कनाथ का पालन आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।

यह भी पढ़िए – स्पोर्टी लुक में Suzuki Gixxer की पतलून ढीली कर देंगी नई Bajaj Pulsar, दमदार फीचर्स और इंजन से मार्केट में बनायेंगी दबदबा

GI टैग मिला है इस मुर्गे को

कड़कनाथ मुर्गे का बिजनेस करना है तो फिर बड़ी संख्या में इसे आपको खरीदना होगा. मध्य प्रदेश के झाबुआ जिले में कड़कनाथ मुर्गे को बड़ी संख्या में लोग पालते हैं और बेचते हैं. आप भी यहीं से इनकी खरीदारी कर सकते हैं. एक की कीमत तकरीबन 200-300 रुपये तक के बीच में होती है. साल 2018 में झाबुआ ने कड़कनाथ मुर्गे का जीआई टैग भी हासिल कर लिया था. इस मुर्गे में बहुत औषधीय गुण भी होते हैं और इसमें कोलेस्ट्रोल की मात्रा भी बहुत कम होती है, जिसकी वजह से लोग इसका मांस काफी पसंद करते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed